Anushveda Wellness

Ayurvedic Medicine for Heart Disease and Blocked Arteries

Shimbhala Herbal Extracts - Ayurvedic Medicine for Heart Diseases
Product Pack size– 500 ml bottle
Free ayurvedic consultation for heart disease

Shimbhala Herbal Extracts

Shimbhala Herbal Extracts an ayurvedic medicine useful in the treatment, management and prevention of heart disease and blocked arteries. It offers root cause treatment and helps improve heart conditions.
The Herbs in Shimbhala help improve overall health and have been found to benefit those with joint pains, diabetes, body weakness, low stamina and many other such conditions also.
Shimbhala Herbal Extracts is a premium product from the house of Anushveda Wellness consists of concentrated liquid extracts of herbs such as ginger, garlic and lemon with apple cider vinegar and honey. The formulation is made by blending the pure liquid extracts of common edible substances and dehydrating them by superheating for a long duration with steam heat which also purifies the concoction which when becomes concentrated is cooled and mixed with honey. The active ingredients of all the herbs in the formulation act in a synergistic and therapeutically effective combination to deliver a powerful impact.

 

Free ayurvedic consultation for heart disease

Ayurvedic Medicine for Cholesterol & Blocked Arteries

There are two main root causes of bad heart health. One is cholesterol and the other is a blockage in arteries. Both conditions can cause serious heart conditions.
Shimbhala herbal extracts an ayurvedic medicine helps treat both conditions and removes all the potential root causes of a bad heart condition. It also acts as a preventive formulation and regular use helps maintain good heart health. It is a neutral formulation, where two ingredients are hot herbs and two are cold herbs, balanced further in a honey base which makes the formulation well suited for all seasons.

Ayurvedic Medicine for Better Health

Since all the ingredients used in the preparation of Shimbhala herbal extracts are strong anti-oxidants, the resultant effect of the formulation is it also provides vigour and vitality and helps fight inflammatory disorders such as joint pains and infections.

Regular and prolonged use of Shimbhala herbal extracts ayurvedic medicine helps lower sugar levels. This particular effect is especially beneficial for those who suffer from a heart condition and are diabetic too. 

Overall Shimbhala is a perfect alternate option for those who are looking to prevent conditions which cause heart disease and especially in cases where blockages in blood vessels have been detected. It is important to note here that it can be had along with the main medicines prescribed by a medical practitioner. It works more on the root causes and has the potential to improve heart health. Shimbhala herbal extracts is not known for any side effects, since all ingredients are food grade. There is no preservative or chemicals added. It is a completely natural formulation.

Shimbhala Ayurvedic Herbal Extracts Targeted for Addressing the Following Health Conditions:

Free ayurvedic consultation for heart disease

Shimbhala  Ayurvedic Medicine acts as a natural blood thinner due to the presence of ginger and garlic. All ingredients are antioxidants which help build natural body immunity. Provides vigour and vitality and promotes overall health.

Shimbhala herbal extracts are known to be useful in all the above-mentioned conditions, the efficacy of which is dose-dependent.

Dosages

Frequently Asked Questions (FAQs) about Shimbhala Ayurvedic Herbal Extracts

Free ayurvedic consultation for heart disease
Shimbhala herbal extracts is useful for heart disease and blocked arteries. It opens up artery blockages, promotes healthy blood circulation to the heart and all other organs in the body. Shimbhala Herbal extracts is also useful for those who suffer from high cholesterol and blood pressure, fatty liver, joint pains and low body energy and resistance.

Shimbhala herbal extracts opens artery blockages, protects the heart through good and uninterrupted blood flow, It is a high quality and pure formulation without any compromise on quality. It has over 10000 satisfied users and Product reviews.
Shimbhala Herbal Extract  – Ayurvedic Medicine has been found to be effective for fatty liver and joint pains.

Those who have identified heart blockages, are above the age of 40, have a family history of heart disease, have high cholesterol, fatty liver, stressful and sedentary lifestyle should use Shimbhala herbal extracts.
Shimbhala herbal extracts can be taken alongside Allopathic medicines. It has not been found to have any interaction with other drugs. As Shimbhala herbal extracts takes effect, regular blood thinners, statins for cholesterol etc which have a lot of side effects can be tapered down or stopped completely under medical supervision. Shimbhala works on the root cause of artery blockages and offers a non invasive, side effect free alternative.
Shimbhala herbal extracts should be taken 15 ml before breakfast and 15 ml before dinner for best results.
Shimbhala herbal extracts is prepared using premium raw materials and sophisticated processes since the entire efficacy of the product depends on how it is manufactured. For example if it is not boiled and evaporated sufficiently according to process it may not give the desired result. Shimbhala herbal extracts is a 12 year old product and is certified and reviewed positively by scores of users. It guarantees quality and delivers without any compromises.
Yes Shimbhala herbal extracts is an ayurvedic, natural formulation made out of extract of ginger, garlic, lemon with Apple cider and honey.
Yes. Shimbhala herbal extracts has honey as base but is not known to affect diabetes adversely. On the contrary it has been reported and tested to show reduced sugar levels in diabetes patients for those who have used Shimbhala as a long term therapy. This is bacause other ingredients such as garlic, ginger, lemon and apple cider are all anti sugar agents and the formulation as a whole is well balanced.
Shimbhala herbal extracts has been tested and reported by many in providing relief within two weeks. However we need to understand that clotting in arteries is an ongoing process. Clot is made, dissolves and then is remade, until gradually clots go away. Hence for blockages Shimbhala should be taken for longer therapy such 3 months minimum, 6 months and so on depending upon case to case.
Shimbhala herbal extracts can be purchased online on www.anushveda.com or ordered through whatsap or call or sms on 9310802618 or 9988848343. It is home delivered.
One unit of Shimbhala herbal extracts is for Rs. 760 all inclusive with a pack size of 500 ml. If purchased cash on delivery then Rs 90 are charged additional making it total Rs 850.

SAVE YOUR HEART

About the Herbs that make Shimbhala Herbal Extracts.

Free ayurvedic consultation for heart disease

Ginger

Garlic reducing glucose, cholesterol, and triglyceride levels

Garlic is a species in the onion genus. It has been used in food and medicine for more than 5000 years.

 Garlic is native to central Asia and has long been a staple in the Mediterranean region, as well as a frequent seasoning in Asia, Africa, and Europe. It was known to ancient Egyptians and has been used throughout its history for both culinary and medicinal purposes.

High doses of raw garlic have been found to have a profound effect on reducing glucose, cholesterol, and triglyceride levels.

1  Several studies on garlic have found alterations in many cardiovascular disease (CVD) risk factors including blood pressure, plasma viscosity, platelet activity, and serum lipid levels.
2  Garlic, administered in a daily dose of 2 x 2 capsules (each capsule containing ethyl acetate extract from 1 g peeled and crushed raw garlic), reduced significantly total serum cholesterol and triglycerides and increased significantly HDL-cholesterol and fibrinolytic activity.
3 Garlic is also claimed to help prevent heart disease (including atherosclerosis, high cholesterol, and high blood pressure) and cancer.

4 A Czech study found garlic supplementation reduced the accumulation of cholesterol on the vascular walls of animals.
5 Another study had similar results, with garlic supplementation significantly reducing aortic plaque deposits of cholesterol-fed rabbits.
6 Supplementation with garlic extract inhibited vascular calcification in human patients with
high blood cholesterol.
7 Garlic can prevent and treat plaque buildup in the arteries. It is typically taken in capsules, but fresh garlic is also effective. Clinical trials have found that consuming fresh garlic or garlic supplements can “lower cholesterol levels, prevent blood clots and destroy plaque,” says the University of Maryland Medical Center. Garlic might be most beneficial to women in preventing and treating atherosclerosis, according to studies cited by the University of Michigan Health System. Both the main active component of garlic called allicin and the constituent ajoene are responsible for preventing blood clots by reducing the “stickiness” of blood platelets, the University of Michigan points out. Also, taking aged garlic extract instead of raw garlic might prevent oxidation of LDL cholesterol, or “bad cholesterol,” which can prevent the development of atherosclerosis and plaque buildup in arteries

Ginger (Zingiber officinale Roscoe, Zingiberaceae) scavenging free radicals from the blood

Ginger extract is a leading ingredient of Shimbhala and helps in scavenging free radicals from the blood which are harmful carriers of disease. Many studies have indicated this property of ginger. It also has anti-inflammatory and anti-microbial properties and is highly therapeutic or medicinal properties.  

Ginger has been found to possess at least 14 bioactive compounds, including -gingerol, -gingerol, -gingerol, -gingerol,-paradol,-shogaol, -shogaol, 1-dehydro–gingerdione, -gingerdione, hexahydrocurcumin, tetrahydrocurcumin, gingerenone A, 1,7-bis-(4′ hydroxyl-3′ methoxyphenyl)-5-methoxyhepthan-3-one, and methoxy–gingerol The proportion varies depending upon geographical areas. All these compounds in ginger make it the wonder herb that it is which is the reason why ginger has been used for its medicinal effects from time immemorial.

The presence of oxidative stress is associated with numerous diseases and a common mechanism of action resulting from numerous trials and studies has shown the actions and health benefits of ginger are associated with its antioxidant properties. 

In one clinical study it was found that Ginger decreased age-related oxidative stress markers. Ginger root contains a very high level (3.85 mmol/100 g) of total antioxidants.

Ginger compounds have been reported to effectively inhibit superoxide production. Ginger suppresses lipid peroxidation and protects the levels of reduced glutathione. 

Ginger’s role as an Anti Inflammatory.

Studies have highlighted Ginger for its ability to decrease inflammation, swelling, and pain.

Ginger has been suggested to be effective against inflammation, osteoarthritis, and rheumatism

We need to understand that many critical health conditions start because of inflammation in the body. If inflammation can be treated then we are possibly not letting disease set into the body. This is where Ginger plays a critical role in root cause treatment.

Ginger’s role in cardiovascular disease

The University Of Maryland Medical Center cites several preliminary studies that suggest ginger may lower cholesterol and prevent blood from clotting. Stopping your blood from clotting can help people with heart disease, where blood vessels become clogged and lead to heart attack or stroke. High cholesterol can also lead to clogged arteries when the cholesterol builds up on the artery walls. Ginger may also help to lower blood pressure, another indicator of heart disease. The University of Michigan Health System informs that taking 10 g, or 1 heaping tsp., or more of ginger root per day can reduce platelet stickiness and help clear arteries of plaque.

A study published in 2005 in the “Journal of Cardiovascular Pharmacology” found that ginger lowered blood pressure in controlled experimental conditions

A study published in the “South Asian Journal of Preventive Cardiology” in 2004 with lead author S.K. Verma notes that ginger contains components with strong antiplatelet and antithrombotic properties, which help prevent blood clots. It also is a potent antioxidant and scavenges or destroys free radicals, which are harmful substances that might contribute to atherosclerosis

Lemon (Citrus latifolia or Citrus aurantiifolia) - inflammatory, glycemic, and oxidative status

The Citrus genus is the most important fruit tree crop in the world and lemon is the third most important Citrus species. Several studies highlighted lemon as important health- promoting fruit rich in phenolic compounds as well as vitamins, minerals, dietary fibre, essential oils and carotenoids.

Bioactive Components of Citrus latifolia contain essential oil (7%), whose main components are citral, limonene, β-pinene, and fenchone (up to 15%). Lime oil has also been documented to contain oxypeucedanin, a phototoxic compound and up to 7.7% citric acid. Lemons are high in vitamin C; 4 tbsp. of lemon juice will give you half the vitamin C you need for the day.

Lemon’s role in cardiovascular disease

Vitamin C is a known powerful antioxidant. It makes cholesterol less likely to stick to artery walls and prevents cardiovascular problems by lowering blood pressure, reducing the risk of hypertension, ensuring the proper dilation of blood vessels, lowering cholesterol, lowering the risk of congestive heart failure and preventing angina pectoris.
Vitamin P, another component found in lemons, helps strengthen blood vessels and prevent internal haemorrhage. For the same reason, lemon juice is also effective in stopping gum bleeding. Lemon juice is sometimes applied to the nostrils to stop epistaxis (nosebleeds). The antioxidants found in lemons and other citric fruits (called bioflavonoids) can also help prevent recurring nosebleeds by strengthening blood vessels and making them less susceptible to rupture. These antioxidants have the same effect on other blood vessels in the organism, being able to prevent cerebro-vascular accidents in people suffering from high blood pressure.
Lemons are also packed with limonene, a natural disease-preventing compound that helps lower cholesterol. In addition, its high levels of potassium help to control high blood pressure alleviate nausea and dizziness and uplift the mind and body.
Results of a clinical study to assess the efficacy and safety of a citrifolia polyphenolic extract on weight management and metabolic parameters in healthy overweight individuals indicated that Sinetrol-XPur supplementation is a viable option for reducing abdominal fat, waist and hip circumference, and body weight and for improving inflammatory, glycemic, and oxidative status in healthy overweight individuals.

APPLE CIDER VINEGAR – A history of benefits

Apple cider vinegar has been used since ancient times as a remedy for many different ailments. Hippocrates is said to have used it as an antibiotic. Its uses in cardiac care are mainly for the reduction of the bad cholesterol i.e. LDL. A teaspoon of cider vinegar in a glass of water per day is said to lower blood pressure. Scientific evidence links apple cider vinegar to weight loss, control of blood glucose and also reduction of LDL (bad cholesterol) and raising of HDL (good cholesterol).

The effect of apple cider vinegar on Fasting Blood Glucose (FBG), glycated haemoglobin (HbA1c) and lipid profile has been experienced by many users apart from studies indicating the same. The results of a clinical study indicated that apple cider vinegar improved the serum lipid profile in normal and diabetic rats by decreasing serum TG, LDL-c and increasing serum HDL-c which may be of great value in managing diabetic complications.

Honey

Honey binds natural formations together and is considered a good carrier of drugs . Dark honey is thought to be of more therapeutic value than lighter honey.

Also honey has been clinically tested to be a good anti-glycemic agent. This suggests that honey can be good in a good diabetic condition.

Honey has the property of excellent bio-availability thereby assisting in the absorption and assimilation of other ingredients along with it. Honey in combination with other extracts delivers high therapeutic potential apart from being known for centuries to be used for treating wounds and infections apart from helping the body develop a good resistance to such bacterial or viral infections. It is a good anti-bacterial oral formulation.

Honey- A look into it  !
Bioactive compounds of honey The Department of Commodity Science and Food Analysis, Department of Physics and Biophysics University of Warmia and Mazury in Olsztyn confirmed in a study presence of bioactive compounds in honey. The total phenolic content and the content of flavonoids and metals – K, Ca, Mg, Zn, Fe, Mn and Cu, were determined in honey from different origins.

Natural honey is a rich source of natural antioxidants which effectively minimize the risk of coronary heart disease, immune system disorders and cancer (Linus Pauling Institute). Honey also contains bioactive phenolic compounds, enzymes and minerals. The group of non-enzymatic antioxidants present in honey includes phenolic acids, flavonoids (flavanones and flavanols), carotenoids and organic acids. The antioxidant properties of honey are attributed mainly to the presence of phenolic compounds. Dark-coloured varieties are believed to have the most potent antioxidant properties.

The obtained results in one study approved honey and Zingiber officinale having antibacterial potency able to establish valuable inhibition zones in vitro. While some phytochemical constituents known for inhibition of microorganisms were observed in Zingiber officinale, honey also possessed traces of Saponin and cardiac glycoside. Effective antimicrobial was possible for this reason with Zingiber officinale while it was also possible in conjunction with the sugar contents in honey.
In simple terms, honey and ginger combination acts as a natural anti-biotic.

Apple Cider and Honey- Together how they work!
The health benefits of the apple cider vinegar and honey drink are widely accepted as part of ‘traditional or home-remedies’. Anti-ageing properties have been attributed to the combination while others have recognized and made use of its cleansing and disinfecting properties to self-detoxify their body. It is seen as a powerful cleansing agent and natural healing elixir with naturally occurring antibiotic and antiseptic that fights germs and bacteria. It is particularly effective in the control of blood pressure and the management of high cholesterol.

Mechanism of action:

What is the reason for the beneficial effects of apple-cider vinegar and honey? How does the combination act? The combination acts by helping to maintain the ‘acid-base’ balance of the body. Too much ‘acidic’ environment in the body is harmful. The combination of apple cider vinegar and honey pushes the acidic environment towards ‘alkaline’ which is highly beneficial and healthy. The body has an acid-alkaline (or acid-base) ratio called the pH which is a balance between positively charges ions (acid-forming) and negatively charged ions (alkaline-forming). When this balance is compromised many problems can occur. The body is forced to borrow minerals—including calcium, sodium, potassium and magnesium from vital organs and bones to neutralize the acid and safely remove it from the body. And severe damage can be done to the body due to high acidity. Ideally, for most people, the ideal diet is 75 percent alkalizing and 25 percent acidifying foods by volume. Allergic reactions and other forms of stress also tend to produce excessive acids in the body.

The alkaline-forming ability of apple cider vinegar can correct excess acidity in the body and also help prevent and fight infection. Honey added to the vinegar naturally makes the mixture more palatable. Unprocessed raw honey has been classified as an alkaline-forming food. Interestingly, every sweet food has a low pH and that is the nature of sugar. However, researchers have discovered that 45 minutes after eating honey, blood tests showed more alkalinity. Diabetics also have lower blood sugar 45 minutes after eating honey. This is because, unlike processed sugar and artificial sweeteners, honey is very quickly absorbed into the body cells for fuel use, rather than sitting in the blood.

Buy now and improve your health

Shimbhala Herbal Extracts – The 5-in-1 recipe that beats it all!

Each ingredient of Shimbhala has its own benefits. When it combines with the other it extends it’s individual benefits to the formulation and also has a team effect overall. A powerful combined delivery.

The 5-in-1 combination of nature’s most powerful herbs and gifts is packed with strong Antioxidants, Shimbhala delivers a strong and instant effect on most users who have documented its impact on health.

The formulation may act as a wellness potion with preventive and curative actions.

We Deal With Various Quality Organic Products!

Free ayurvedic consultation for heart disease

शिंभला हर्बल अर्क मुख्य पाठ

 

शिंभला हर्बल एक्सट्रैक्ट्स अनुश्वेद वेलनेस के घर से एक प्रीमियम उत्पाद है। इसमें सेब साइडर सिरका और शहद के साथ अदरक, लहसुन और नींबू जैसी जड़ी-बूटियों के केंद्रित तरल अर्क होते हैं। सामान्य खाद्य पदार्थों के शुद्ध तरल अर्क को एक विशिष्ट तरीके से मिश्रित करके तैयार किया जाता है, जैसे कि सक्रिय तत्व एक सहक्रियात्मक और चिकित्सीय रूप से प्रभावी संयोजन में मौजूद होते हैं।
यह सूत्रीकरण हृदय रोग और अवरुद्ध धमनियों के उपचार, प्रबंधन और रोकथाम में उपयोगी पाया गया है। यह मूल कारण उपचार प्रदान करता है और हृदय की स्थिति में सुधार करने में मदद करता है। शिंभला में जड़ी-बूटियाँ समग्र स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में मदद करती हैं और जोड़ों के दर्द, मधुमेह, शरीर की कमजोरी, कम सहनशक्ति और ऐसी कई अन्य स्थितियों से पीड़ित लोगों के लिए फायदेमंद पाई गई हैं।

शिंभला और हृदय स्वास्थ्य
दिल के खराब होने के दो मुख्य कारण हैं। एक कोलेस्ट्रॉल और दूसरा धमनियों में रुकावट। दोनों स्थितियां गंभीर हृदय स्थितियों का कारण बन सकती हैं। शिंभला हर्बल अर्क दोनों स्थितियों को ठीक करने में मदद करता है और खराब दिल की स्थिति के सभी संभावित मूल कारणों को दूर करता है। यह एक निवारक फॉर्मूलेशन के रूप में भी कार्य करता है और नियमित उपयोग अच्छे हृदय स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करता है। यह एक तटस्थ सूत्रीकरण है, जहां दो अवयव गर्म जड़ी-बूटियां हैं और दो ठंडी जड़ी-बूटियां हैं, जो शहद के आधार में आगे संतुलित होती हैं जो सभी मौसमों के लिए सूत्रीकरण को अच्छी तरह से अनुकूल बनाती हैं।
चूंकि शिंभला हर्बल अर्क की तैयारी में उपयोग की जाने वाली सभी सामग्री मजबूत एंटी ऑक्सीडेंट हैं, इसलिए फॉर्मूलेशन का परिणामी प्रभाव यह शक्ति और जीवन शक्ति भी प्रदान करता है और जोड़ों के दर्द और संक्रमण जैसे सूजन संबंधी विकारों से लड़ने में मदद करता है।
शिंभला हर्बल अर्क का नियमित और लंबे समय तक उपयोग शर्करा के स्तर को कम करने में मदद करता है। यह विशेष प्रभाव उन लोगों के लिए विशेष रूप से फायदेमंद है जो हृदय रोग से पीड़ित हैं और मधुमेह के रोगी भी हैं।

कुल मिलाकर शिंभला उन लोगों के लिए एक आदर्श वैकल्पिक विकल्प है जो हृदय रोग का कारण बनने वाली स्थितियों को रोकना चाहते हैं और विशेष रूप से उन मामलों में जहां रक्त वाहिकाओं में रुकावट का पता चला है। यहां यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि इसे एक चिकित्सक द्वारा निर्धारित मुख्य दवाओं के साथ लिया जा सकता है। यह मूल कारणों पर अधिक काम करता है और इसमें हृदय स्वास्थ्य में सुधार करने की क्षमता होती है।
शिंभला हर्बल अर्क किसी भी साइड इफेक्ट के लिए नहीं जाना जाता है, क्योंकि सभी सामग्री खाद्य ग्रेड हैं। कोई संरक्षक या रसायन जोड़ा नहीं गया है। यह पूरी तरह से प्राकृतिक सूत्रीकरण है।

निम्नलिखित स्वास्थ्य स्थितियों के लिए उपयोग के लिए अनुशंसित:

• अवरुद्ध धमनियां (एनजाइना)
• उच्च रक्तचाप (रक्तचाप)
• उच्च रक्त शर्करा का स्तर
• फैटी लीवर
• उच्च एलडीएल (कोलेस्ट्रॉल)
• उच्च ट्राइग्लिसराइड्स।
• गठिया जैसे सूजन संबंधी विकार
• पूरे शरीर में कमजोरी

अदरक और लहसुन की उपस्थिति के कारण शिंभला प्राकृतिक रक्त को पतला करने का काम करता है। सभी अवयव एंटीऑक्सिडेंट हैं जो प्राकृतिक शरीर की प्रतिरक्षा बनाने में मदद करते हैं। शक्ति और जीवन शक्ति प्रदान करता है और समग्र स्वास्थ्य को बढ़ावा देता है।

उत्पाद पैकेजिंग आकार- मुद्रित बाहरी कार्टन में 500 मिलीलीटर की बोतल।

खुराक दिन में एक बार/दो बार 15 मिली या भोजन से पहले सलाह के अनुसार है। उपयोग करने से पहले बोतल को अच्छी तरह हिलाएं।
पूरे भारत और चुनिंदा यूरोपीय देशों में होम डिलीवरी के लिए उपलब्ध है।
कीमत
प्रीपेड – INR 760 (सभी समावेशी)
डिलीवरी पर नकद INR 850

ऑर्डर करें
www.anushveda.com
9310802618 और 9988848343

त्वरित और आसान ऑर्डर देने के लिए व्हाट्सएप को 9310802618 या 9988848343 पर भेजें।

जड़ी-बूटियों के बारे में जो शिंभला हर्बल अर्क बनाती हैं।

लहसुन (एलियम सैटिवम)। दिल का एक स्वाभाविक दोस्त।
लहसुन प्याज जीनस में एक प्रजाति है। इसका उपयोग भोजन और चिकित्सा में 5000 से अधिक वर्षों से किया जा रहा है। लहसुन मध्य एशिया का मूल निवासी है और भूमध्यसागरीय क्षेत्र में लंबे समय से प्रमुख है, साथ ही एशिया, अफ्रीका और यूरोप में लगातार मसाला भी है। यह प्राचीन मिस्रवासियों के लिए जाना जाता था, और इसका उपयोग पूरे इतिहास में पाक और औषधीय दोनों उद्देश्यों के लिए किया गया है।
कच्चे लहसुन की उच्च खुराक का ग्लूकोज, कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड के स्तर को कम करने में गहरा प्रभाव पाया गया है। लहसुन पर कई अध्ययनों में रक्तचाप, प्लाज्मा चिपचिपाहट सहित कई हृदय रोग (सीवीडी) जोखिम कारकों में परिवर्तन पाया गया है। प्लेटलेट गतिविधि, और सीरम लिपिड स्तर। 2 लहसुन, 2 x 2 कैप्सूल की दैनिक खुराक में प्रशासित (प्रत्येक कैप्सूल जिसमें 1 ग्राम छिलके और कुचल कच्चे लहसुन से एथिल एसीटेट अर्क होता है), कुल सीरम कोलेस्ट्रॉल और ट्राइग्लिसराइड्स को काफी कम कर देता है, और एचडीएल में काफी वृद्धि करता है -कोलेस्ट्रॉल और फाइब्रिनोलिटिक गतिविधि। 3 लहसुन को हृदय रोग (एथेरोस्क्लेरोसिस, उच्च कोलेस्ट्रॉल और उच्च रक्तचाप सहित) और कैंसर को रोकने में मदद करने का भी दावा किया जाता है। एक चेक अध्ययन में पाया गया कि लहसुन के पूरक ने जानवरों की संवहनी दीवारों पर कोलेस्ट्रॉल के संचय को कम किया। 5 एक अन्य अध्ययन के समान परिणाम थे, लहसुन के पूरक के साथ कोलेस्ट्रॉल से प्रभावित खरगोशों की महाधमनी पट्टिका जमा को काफी कम कर देता है। उच्च रक्त कोलेस्ट्रॉल के साथ मानव रोगियों में लहसुन के अर्क ने संवहनी कैल्सीफिकेशन को रोक दिया
लहसुन धमनियों में प्लाक निर्माण को रोक सकता है और उसका इलाज कर सकता है। यह आमतौर पर कैप्सूल में लिया जाता है, लेकिन ताजा लहसुन भी प्रभावी होता है। क्लिनिकल परीक्षणों में पाया गया है कि ताजा लहसुन या लहसुन की खुराक लेने से “कोलेस्ट्रॉल का स्तर कम हो सकता है, रक्त के थक्कों को रोका जा सकता है और पट्टिका को नष्ट किया जा सकता है,” यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड मेडिकल सेंटर का कहना है। मिशिगन स्वास्थ्य प्रणाली विश्वविद्यालय द्वारा उद्धृत अध्ययनों के अनुसार, एथेरोस्क्लेरोसिस को रोकने और इलाज करने में लहसुन महिलाओं के लिए सबसे अधिक फायदेमंद हो सकता है। लहसुन के मुख्य सक्रिय घटक एलिसिन और घटक एजोइन दोनों रक्त प्लेटलेट्स की “चिपचिपाहट” को कम करके रक्त के थक्कों को रोकने के लिए जिम्मेदार हैं, मिशिगन विश्वविद्यालय बताते हैं। इसके अलावा, कच्चे लहसुन के बजाय वृद्ध लहसुन का अर्क लेने से एलडीएल कोलेस्ट्रॉल, या “खराब कोलेस्ट्रॉल” के ऑक्सीकरण को रोका जा सकता है, जो धमनियों में एथेरोस्क्लेरोसिस और प्लाक बिल्डअप के विकास को रोक सकता है।

अद्भुत और शक्तिशाली अदरक
अदरक का अर्क शिंभला का एक प्रमुख घटक है और रक्त से मुक्त कणों को हटाने में मदद करता है जो रोग के हानिकारक वाहक हैं। कई अध्ययनों ने अदरक के इस गुण का संकेत दिया है। यह भी विरोधी भड़काऊ और विरोधी माइक्रोबियल गुण है और अत्यधिक चिकित्सीय या औषधीय गुण है।
अदरक में कम से कम 14 बायोएक्टिव यौगिक पाए गए हैं, जिनमें -जिंजरोल, -जिंजरोल, -जिंजरोल, -जिंजरोल, -पैराडोल, -शोगोल, -शोगोल, 1-डीहाइड्रो–जिंजरडायन, -जिंजरडायोन, हेक्साहाइड्रोकुरक्यूमिन, टेट्राहाइड्रोकुरक्यूमिन, जिंजरनोन ए शामिल हैं। , 1,7-बीआईएस- (4′ हाइड्रॉक्सिल-3′ मेथॉक्सीफेनिल)-5-मेथॉक्सीहेप्थान-3-एक, और मेथॉक्सी-जिंजरोल अनुपात भौगोलिक क्षेत्रों के आधार पर भिन्न होता है। अदरक में ये सभी यौगिक इसे अद्भुत जड़ी बूटी बनाते हैं, यही कारण है कि अदरक का उपयोग इसके औषधीय प्रभावों के लिए अनादि काल से किया जाता रहा है।
ऑक्सीडेटिव तनाव की उपस्थिति कई बीमारियों से जुड़ी हुई है और कई परीक्षणों और अध्ययनों के परिणामस्वरूप कार्रवाई के एक सामान्य तंत्र ने दिखाया है कि अदरक के कार्य और स्वास्थ्य लाभ इसके एंटीऑक्सीडेंट गुणों से जुड़े हैं।
एक नैदानिक अध्ययन में यह पाया गया कि अदरक उम्र से संबंधित ऑक्सीडेटिव तनाव मार्कर को कम करता है। अदरक की जड़ में कुल एंटीऑक्सीडेंट का उच्च स्तर (3.85 mmol/100 g) होता है।
अदरक के यौगिकों को सुपरऑक्साइड उत्पादन को प्रभावी ढंग से बाधित करने के लिए सूचित किया गया है। अदरक लिपिड पेरोक्सीडेशन को दबाता है और कम ग्लूटाथियोन के स्तर की रक्षा करता है।
एक विरोधी भड़काऊ के रूप में अदरक की भूमिका।
अध्ययनों ने अदरक को सूजन, सूजन और दर्द को कम करने की क्षमता के लिए उजागर किया है।
अदरक को सूजन, पुराने ऑस्टियोआर्थराइटिस और गठिया के खिलाफ प्रभावी होने का सुझाव दिया गया है
हमें यह समझने की जरूरत है कि कई गंभीर स्वास्थ्य स्थितियां शरीर में सूजन के कारण शुरू होती हैं। यदि सूजन का इलाज किया जा सकता है तो हम संभवतः शरीर में बीमारी को स्थापित नहीं होने दे रहे हैं। यहीं पर अदरक मूल कारणों के उपचार में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है।

हृदय रोग में अदरक की भूमिका
मैरीलैंड मेडिकल सेंटर विश्वविद्यालय कई प्रारंभिक अध्ययनों का हवाला देता है जो सुझाव देते हैं कि अदरक कोलेस्ट्रॉल कम कर सकता है और रक्त को थक्के से रोक सकता है। अपने रक्त को थक्का जमने से रोकने से हृदय रोग से पीड़ित लोगों को मदद मिल सकती है, जहां रक्त वाहिकाएं बंद हो जाती हैं और इससे दिल का दौरा या स्ट्रोक हो सकता है। जब कोलेस्ट्रॉल धमनियों की दीवारों पर जमा हो जाता है तो उच्च कोलेस्ट्रॉल भी धमनियों को बंद कर सकता है। अदरक रक्तचाप को कम करने में भी मदद कर सकता है, जो हृदय रोग का एक अन्य संकेतक है। मिशिगन स्वास्थ्य प्रणाली विश्वविद्यालय ने सूचित किया है कि प्रति दिन 10 ग्राम, या 1 हीपिंग टीस्पून, या अधिक अदरक की जड़ लेने से प्लेटलेट चिपचिपापन कम हो सकता है और पट्टिका की धमनियों को साफ करने में मदद मिल सकती है।
2005 में “जर्नल ऑफ कार्डियोवास्कुलर फार्माकोलॉजी” में प्रकाशित एक अध्ययन में पाया गया कि अदरक नियंत्रित प्रायोगिक स्थितियों में रक्तचाप को कम करता है।
2004 में “साउथ एशियन जर्नल ऑफ प्रिवेंटिव कार्डियोलॉजी” में प्रमुख लेखक एस.के. वर्मा ने नोट किया कि अदरक में मजबूत एंटीप्लेटलेट और एंटीथ्रॉम्बोटिक गुणों वाले घटक होते हैं, जो रक्त के थक्कों को रोकने में मदद करते हैं। यह एक शक्तिशाली एंटीऑक्सिडेंट भी है और मुक्त कणों को नष्ट या नष्ट कर देता है, जो हानिकारक पदार्थ हैं जो एथेरोस्क्लेरोसिस में योगदान कर सकते हैं।
नींबू – प्रकृति का एक सच्चा उपहार (साइट्रस लैटिफोलिया या साइट्रस ऑरेंटीफोलिया)

साइट्रस जीनस दुनिया में सबसे महत्वपूर्ण फलों के पेड़ की फसल है और नींबू तीसरी सबसे महत्वपूर्ण साइट्रस प्रजाति है। कई अध्ययनों ने नींबू को फेनोलिक यौगिकों के साथ-साथ विटामिन, खनिज, आहार फाइबर, आवश्यक तेलों और कैरोटीनॉयड से भरपूर एक महत्वपूर्ण स्वास्थ्य-प्रचारक फल के रूप में उजागर किया है।

साइट्रस लैटिफोलिया के बायोएक्टिव घटकों में एक आवश्यक तेल (7%) होता है, जिसके मुख्य घटक साइट्रल, लिमोनेन, β-पिनीन और फेनचोन (15% तक) होते हैं। नींबू के तेल में ऑक्सीप्यूसेडेनिन, एक फोटोटॉक्सिक यौगिक और 7.7% साइट्रिक एसिड तक होने का भी दस्तावेजीकरण किया गया है। नींबू विटामिन सी में उच्च होते हैं; 4 बड़े चम्मच। नींबू का रस आपको दिन के लिए आवश्यक आधा विटामिन सी देगा।

हृदय रोग में नींबू की भूमिका
विटामिन सी एक ज्ञात शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट है। यह कोलेस्ट्रॉल को धमनी की दीवारों से चिपके रहने की संभावना कम करता है और रक्तचाप को कम करके, उच्च रक्तचाप के जोखिम को कम करके, रक्त वाहिकाओं के उचित फैलाव को सुनिश्चित करके, कोलेस्ट्रॉल को कम करके, हृदय की विफलता के जोखिम को कम करके और एनजाइना पेक्टोरिस को रोककर हृदय संबंधी समस्याओं को रोकता है।
नींबू में पाया जाने वाला एक अन्य घटक विटामिन पी रक्त वाहिकाओं को मजबूत करने और आंतरिक रक्तस्राव को रोकने में मदद करता है। इसी कारण से नींबू का रस मसूड़ों से खून आने को रोकने में भी कारगर होता है। नकसीर (नाक से खून बहना) को रोकने के लिए कभी-कभी नथुने पर नींबू का रस लगाया जाता है। नींबू और अन्य साइट्रिक फलों (जिन्हें बायोफ्लेवोनोइड्स कहा जाता है) में पाए जाने वाले एंटीऑक्सिडेंट रक्त वाहिकाओं को मजबूत करके और उनके फटने की संभावना को कम करके बार-बार होने वाले नकसीर को रोकने में मदद कर सकते हैं। उच्च रक्तचाप से पीड़ित लोगों में मस्तिष्क-संवहनी दुर्घटनाओं को रोकने में सक्षम होने के कारण, ये एंटीऑक्सिडेंट शरीर में अन्य रक्त वाहिकाओं पर समान प्रभाव डालते हैं।
नींबू में लिमोनेन भी होता है, जो एक प्राकृतिक रोग-निवारक यौगिक है जो कोलेस्ट्रॉल को कम करने में मदद करता है। इसके अलावा, पोटेशियम का उच्च स्तर उच्च रक्तचाप को नियंत्रित करने में मदद करता है, मतली और चक्कर आना कम करता है और मन और शरीर को ऊपर उठाता है।
स्वस्थ अधिक वजन वाले व्यक्तियों में वजन प्रबंधन और चयापचय मापदंडों पर सिट्रिफोलिया पॉलीफेनोलिक अर्क की प्रभावकारिता और सुरक्षा का आकलन करने के लिए एक नैदानिक अध्ययन के परिणाम ने संकेत दिया कि सिनेट्रोल-एक्सपुर पूरक पेट की चर्बी, कमर और कूल्हे की परिधि और शरीर के वजन को कम करने के लिए एक व्यवहार्य विकल्प है। स्वस्थ अधिक वजन वाले व्यक्तियों में सूजन, ग्लाइसेमिक और ऑक्सीडेटिव स्थिति में सुधार के लिए

सेब साइडर सिरका – लाभों का इतिहास
सेब के सिरके का उपयोग प्राचीन काल से कई तरह की बीमारियों के इलाज के लिए किया जाता रहा है। कहा जाता है कि हिप्पोक्रेट्स ने इसे एंटीबायोटिक के रूप में इस्तेमाल किया था। हृदय की देखभाल में इसका उपयोग मुख्य रूप से खराब कोलेस्ट्रॉल यानी एलडीएल को कम करने के लिए किया जाता है। कहा जाता है कि रोजाना एक गिलास पानी में एक चम्मच साइडर विनेगर रक्तचाप को कम करता है। वैज्ञानिक प्रमाण सेब साइडर सिरका को वजन घटाने, रक्त शर्करा के नियंत्रण और एलडीएल (खराब कोलेस्ट्रॉल) को कम करने और एचडीएल (अच्छे कोलेस्ट्रॉल) को बढ़ाने से जोड़ते हैं।
फास्टिंग ब्लड ग्लूकोज (FBG), ग्लाइकेटेड हीमोग्लोबिन (HbA1c) और लिपिड प्रोफाइल पर एप्पल साइडर विनेगर का प्रभाव कई उपयोगकर्ताओं द्वारा अनुभव किया गया है। सीरम टीजी, एलडीएल-सी को कम करके और सीरम एचडीएल-सी को बढ़ाकर सामान्य और मधुमेह के चूहों में प्रोफाइल और मधुमेह संबंधी जटिलताओं के प्रबंधन में बहुत महत्वपूर्ण हो सकता है।

हनी- द बी मैजिक।
शहद प्राकृतिक संरचनाओं को एक साथ बांधता है और इसे दवाओं का अच्छा वाहक माना जाता है। हल्के शहद की तुलना में गहरे रंग के शहद का अधिक चिकित्सीय महत्व माना जाता है।
साथ ही शहद को एक अच्छा एंटी-ग्लाइसेमिक एजेंट होने के लिए चिकित्सकीय परीक्षण किया गया है। इससे पता चलता है कि मधुमेह की अच्छी स्थिति में शहद अच्छा हो सकता है।
शहद में उत्कृष्ट जैव-उपलब्धता का गुण होता है जिससे इसके साथ अन्य अवयवों के अवशोषण और आत्मसात करने में सहायता मिलती है। अन्य अर्क के साथ शहद उच्च चिकित्सीय क्षमता प्रदान करता है, इसके अलावा घावों और संक्रमणों के इलाज के लिए इस्तेमाल होने वाली बीमारियों के लिए जाना जाता है, इसके अलावा शरीर को ऐसे बैक्टीरिया या वायरल संक्रमण के लिए एक अच्छा प्रतिरोध विकसित करने में मदद करता है। यह अच्छा एंटी-बैक्टीरियल ओरल फॉर्मूलेशन है।
मधु- इसमें एक नजर!
शहद के जैव सक्रिय यौगिक, कमोडिटी विज्ञान और खाद्य विश्लेषण विभाग, भौतिकी और जैवभौतिकी विभाग, यूनिवर्सिटी ऑफ वार्मिया और ओल्स्ज़टीन में माजुरी ने शहद में बायोएक्टिव यौगिकों की एक अध्ययन उपस्थिति की पुष्टि की। कुल फेनोलिक सामग्री और फ्लेवोनोइड्स और धातुओं की सामग्री – K, Ca, Mg, Zn, Fe, Mn और Cu, विभिन्न मूल से शहद में निर्धारित किए गए थे।
प्राकृतिक शहद प्राकृतिक एंटीऑक्सिडेंट का एक समृद्ध स्रोत है जो कोरोनरी हृदय रोग, प्रतिरक्षा प्रणाली विकारों और कैंसर (लिनुस पॉलिंग इंस्टीट्यूट) के जोखिम को प्रभावी ढंग से कम करता है। शहद में बायोएक्टिव फेनोलिक यौगिक, एंजाइम और खनिज भी होते हैं। शहद में मौजूद गैर-एंजाइमी एंटीऑक्सिडेंट के समूह में फेनोलिक एसिड, फ्लेवोनोइड्स (फ्लेवनोन्स और फ्लेवनॉल्स), कैरोटेनॉयड्स और ऑर्गेनिक एसिड शामिल हैं। शहद के एंटीऑक्सीडेंट गुणों को मुख्य रूप से फेनोलिक यौगिकों की उपस्थिति के लिए जिम्मेदार ठहराया जाता है। माना जाता है कि गहरे रंग की किस्मों में सबसे शक्तिशाली एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं।
एक अध्ययन में प्राप्त परिणामों ने शहद और ज़िंगिबर ऑफ़िसिनेल को मंजूरी दी, जिसमें जीवाणुरोधी क्षमता होती है जो इन विट्रो में मूल्यवान निषेध क्षेत्र स्थापित करने में सक्षम होती है। जबकि कुछ फाइटोकेमिकल घटक जो सूक्ष्मजीवों के निषेध के लिए जाने जाते हैं, ज़िंगिबर ऑफ़िसिनेल में देखे गए थे, शहद में सैपिनिन और कार्डियक ग्लाइकोसाइड के निशान भी थे। इस कारण से प्रभावी रोगाणुरोधी संभव था Zingiber officinale के साथ, जबकि यह शहद में चीनी सामग्री के संयोजन के साथ भी संभव था।
सरल शब्दों में शहद और अदरक का संयोजन एक प्राकृतिक एंटीबायोटिक के रूप में कार्य करता है।
एप्पल साइडर और हनी- एक साथ कैसे काम करते हैं!
सेब साइडर सिरका और शहद पेय के स्वास्थ्य लाभों को ‘पारंपरिक या घरेलू उपचार’ के हिस्से के रूप में व्यापक रूप से स्वीकार किया जाता है। एंटी-एजिंग गुणों को संयोजन के लिए जिम्मेदार ठहराया गया है, जबकि अन्य ने अपने शरीर को स्वयं-डिटॉक्सीफाई करने के लिए इसकी सफाई और कीटाणुनाशक गुणों को पहचाना और उपयोग किया है। इसे प्राकृतिक रूप से पाए जाने वाले एंटीबायोटिक और एंटीसेप्टिक के साथ एक शक्तिशाली सफाई एजेंट और प्राकृतिक उपचार अमृत के रूप में देखा जाता है जो कीटाणुओं और बैक्टीरिया से लड़ता है। यह रक्तचाप के नियंत्रण और उच्च कोलेस्ट्रॉल के प्रबंधन में विशेष रूप से प्रभावी पाया गया है।
कार्रवाई की प्रणाली:
सेब-सिरका-सिरका और शहद के लाभकारी प्रभावों का कारण क्या है? संयोजन कैसे कार्य करता है? संयोजन शरीर के ‘एसिड-बेस’ संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है। शरीर में अत्यधिक ‘अम्लीय’ वातावरण हानिकारक होता है। सेब साइडर सिरका और शहद का संयोजन अम्लीय वातावरण को ‘क्षारीय’ की ओर धकेलता है जो अत्यधिक फायदेमंद और स्वस्थ है। शरीर में एक एसिड-क्षारीय (या एसिड-बेस) अनुपात होता है जिसे पीएच कहा जाता है जो सकारात्मक चार्ज आयनों (एसिड बनाने) और नकारात्मक चार्ज आयनों (क्षारीय बनाने) के बीच संतुलन है। जब इस संतुलन से समझौता किया जाता है तो कई समस्याएं हो सकती हैं। एसिड को बेअसर करने और इसे शरीर से सुरक्षित रूप से निकालने के लिए शरीर को महत्वपूर्ण अंगों और हड्डियों से कैल्शियम, सोडियम, पोटेशियम और मैग्नीशियम सहित खनिजों को उधार लेने के लिए मजबूर किया जाता है। और उच्च अम्लता के कारण शरीर को गंभीर नुकसान हो सकता है। आदर्श रूप से, अधिकांश लोगों के लिए आदर्श आहार 75 प्रतिशत क्षारीय और 25 प्रतिशत अम्लीय खाद्य पदार्थ है। एलर्जी की प्रतिक्रिया और तनाव के अन्य रूप भी शरीर में अत्यधिक एसिड का उत्पादन करते हैं।
सेब साइडर सिरका की क्षारीय बनाने की क्षमता शरीर में अतिरिक्त अम्लता को ठीक कर सकती है और संक्रमण को रोकने और लड़ने में भी मदद कर सकती है। सिरके में मिलाने वाला शहद प्राकृतिक रूप से मिश्रण को अधिक स्वादिष्ट बनाता है। असंसाधित कच्चे शहद को क्षारीय बनाने वाले भोजन के रूप में वर्गीकृत किया गया है। दिलचस्प बात यह है कि हर मीठे भोजन का पीएच कम होता है और यही चीनी की प्रकृति है। हालांकि, शोधकर्ताओं ने पाया है कि शहद खाने के 45 मिनट बाद रक्त परीक्षण में अधिक क्षारीयता दिखाई दी। मधुमेह रोगियों में भी शहद खाने के 45 मिनट बाद ब्लड शुगर कम होता है। ऐसा इसलिए है, क्योंकि संसाधित चीनी और कृत्रिम मिठास के विपरीत, शहद रक्त में बैठने के बजाय ईंधन के उपयोग के लिए शरीर की कोशिकाओं में बहुत जल्दी अवशोषित हो जाता है।

शिंभला हर्बल एक्सट्रैक्ट्स – 5 इन 1 रेसिपी जो इसे मात देती है!

शिंभला की प्रत्येक सामग्री के अपने फायदे हैं। जब यह दूसरे के साथ जुड़ता है तो यह अपने व्यक्तिगत लाभों को सूत्रीकरण तक बढ़ाता है और समग्र रूप से एक टीम प्रभाव भी डालता है। एक शक्तिशाली संयुक्त वितरण। प्रकृति की सबसे शक्तिशाली जड़ी-बूटियों और उपहारों का 5 में 1 संयोजन एक मजबूत एंटीऑक्सिडेंट के साथ पैक किया जाता है, शिंभला उन अधिकांश उपयोगकर्ताओं पर एक मजबूत और तत्काल प्रभाव प्रदान करता है जिन्होंने स्वास्थ्य पर इसके प्रभाव का दस्तावेजीकरण किया है।
सूत्रीकरण निवारक और उपचारात्मक क्रियाओं के साथ एक कल्याण औषधि के रूप में कार्य कर सकता है।

Shopping Cart